IT Department ने साफ कहा है। 31 मार्च तक PAN को AADHAAR से जोड़ना ही पड़ेगा।




New Delhi : सोमवार को आयकर विभाग ने कहा कि 31 मार्च तक लोग अपने पैन कार्ड को आधार कार्ड से लिंक कर ले और यह अनिवार्य है पिछले महीने ही आयकर विभाग ने कहा था कि अगर आप 31 मार्च तक पैन को आधार से लिंक नहीं किया गया तो पान कार्ड काम नहीं करेगा। इस दृश्य मार्च तक इस नियम का पालन करने के लिए आयकर विभाग ने कहा है।


"31 मार्च 2020 से पहले पैन कार्ड को आधार से लिंक करना अनिवार्य है। आप इसे बायोमेट्रिक आधार सत्यापन के जरिए या फिर और एन एस डी एल के पांच सेवा केंद्रों पर जाकर कर सकते हैं।"


आयकर विभाग ने अपने ट्विटर हैंडल पर वीडियो सेट करते हुए कहा कि यह नियम आने वाले समय के लिए फायदेमंद है वह वीडियो में कहा गया है कि 2 तरीके से आप पैन कार्ड को आधार कार्ड से लिंक कर सकते हैं।


पर आपको एनएसडीएल और केंद्र पर जाकर पान कार्ड को आधार कार्ड से लिंक करना आसान रहेगा।


ऑनलाइन वेब साइट से लिंक करने का तरीका :

1. Website  में जाकर रजिस्टर करें (अगर आप पहली बार साइट में गए हैं तो।)


2. आप से पैन कार्ड की डिटेल मांगी जाएंगी जो आपको देनी पड़ेगी।


3. पेन डिटेल्स देने के बाद आपको मोबाइल नंबर पर ओटीपी भेजा जाएगा।


4. ओटीपी वेरीफिकेशन के बाद पासवर्ड बनाने का ऑप्शन दिया जाएगा तो आपको अपना नया पासवर्ड बनाना है।


5. इसके बाद आप आयकर विभाग की वेबसाइट पर लॉगिन करें।


6. वेबसाइट में लोगिन करने के लिए आपसे यूज़र आईडी मांगा जाएगा आपको यूजर आईडी डालना है।


7. जो यूजर आईडी आपसे मांगा गया है वह यूजर आईडी आपका पैन नंबर है।


8. उसके बाद पासवर्ड और उसके नीचे दिए गए Captcha code को डालकर लॉगिन कर लीजिए।


आप अब देश Website में successful लॉगिन कर चुके हैं।


अब आपको वेबसाइट में पान कार्ड को आधार से लिंक करने के लिए कहा जाएगा इससे आधार नंबर और कैप्चा कोड डालकर Link Now  ऊपर क्लिक करें।


Form भर के कर सकते हैं लिंक :


अगर आप ऑनलाइन प्रक्रिया का उपयोग नहीं करना चाहते हैं तो आप एक निश्चित की गई फॉर्म को भर करता है कि गए शुल्क देकर सेंटर में जमा कर सकते हैं इस फॉर्म को जमा करवाते समय फॉर्म के साथ पान कार्ड, आधार कार्ड की फोटोकॉपी लगाना अनिवार्य है।


SMS के जरिए कर सकते हैं लिंक :


आप अपना पैन कार्ड ऑनलाइन या पेन सेंटर में जाकर लिंक नहीं करवाना चाहते तो आप घर बैठे भी ऑफलाइन उसको आधार कार्ड से लिंक कर सकते है।


आप अपना पैन कार्ड को आधार कार्ड से ऑफलाइन भी लिंक करवा सकते हैं उसके लिए आपको s.m.s. की सहायता लेनी पड़ेगी।


SMS के जरिए पैन कार्ड को आधार कार्ड से लिंक करवाने की विधि :


1. आपको रजिस्टर्ड नंबर से 567678 या 56161 पर मैसेज करना है।


2. इस एसएमएस को नीचे दिए गए फॉर्मेट में भेजना होगा।


PAN CARD 

पान कार्ड यानी परमानेंट अकाउंट नंबर यह 10 अंकों का एक अल्फान्यूमैरिक कोड है, जिसे आयकर विभाग यानी इनकम टैक्स विभाग द्वारा जारी किया जाता है। यह किसी व्यक्ति कंपनी अनिवासी भारत में जो टैक्स का भुगतान करता है, इन सब को दिया जाता है।

पेन एक इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम है। इसका मुख्य काम टैक्स चोरी को रोकना है। वह हमेशा एक ही होता है। पान कार्ड कभी किसी व्यक्ति या कंपनी का दो नहीं हो सकता। पान कार्ड किसी व्यक्ति या कंपनी का एक ही होता है पान कार्ड के नंबर भी किसी व्यक्ति या कंपनी के एक ही हो सकते हैं।

क्यों बनाना चाहिए ?

पैन कार्ड का परमानेंट अकाउंट नंबर होता है। यह एक जरूरी दस्तावेज है। चाहे बैंक अकाउंट खुलवाना हो या फिर इनकम टैक्स रिटर्न भरना हो। पैन कार्ड की आवश्यकता आपको हर जगह पड़ती ही है। इसे हर किसी को जरूर बनवा लेना चाहिए। आप इसे ऑनलाइन या ऑफलाइन भी बनवा सकते हैं।

पान कार्ड जारी करने वाला विभाग आयकर विभाग है जो भारत सरकार के अधीन है और पान कार्ड की अवधि आजीवन होती है और इसको बनवाने का शुल्क भी ₹101 आता है।

AADHAR CARD 


आधार कार्ड भारत सरकार द्वारा भारत के अपने नागरिकों को जारी किए जाने वाला पहचान पत्र है। इसमें 12 अंकों का विशिष्ट कोड दिया जाता है।उसे भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण जारी करता है। यह संख्या भारत में कहीं भी व्यक्ति की पहचान और पते का प्रमाण होता है।

उसे भारतीय डाक द्वारा प्राप्त किया जा सकता है और यू आई डी आई की वेबसाइट से डाउनलोड भी किया जा सकता है। दोनों ही तरीके से एक समान होता है।

कोई भी व्यक्ति आधार कार्ड के लिए अप्लाई कर सकता है पर एक ही शर्त है कि उसके लिए उस व्यक्ति का भारत के नागरिक होना आवश्यक है और प्रत्येक व्यक्ति सिर्फ एक बार ही नामांकन करवा सकता है और वह बिल्कुल ही निशुल्क होता है। यह सिर्फ भारतीय होने का प्रमाण पत्र है। भारतीय नागरिकता का प्रमाण पत्र नहीं है।

इसे जारी करने वाला मंत्रालय, इलेक्ट्रॉनिक और सूचना प्रौद्योगिकी करण मंत्रालय है। यह भारत सरकार के अधीन है। यह शुरू 28 जनवरी 2009 को हुआ था। यानी कि 11 वर्ष पहले हुआ था।

क्यों बनवाना चाहिए ?

आधार कार्ड का कोड प्रत्येक व्यक्ति की जीवन भर की पहचान है।

आधार संख्या से आपको बैंकिंग मोबाइल फोन, कनेक्शन और कई और सुविधा भी मिल सकती है।

इसको अप्लाई करने की विधि भी बहुत ही सरल है।

यह एक क्रम रहित उत्पन्न संख्या है जो किसी भी जाति पंथ या किसी मजहब एवं भौगोलिक क्षेत्र आदि के वर्गीकरण पर आधारित नहीं है।


पैन कार्ड को आधार कार्ड से लिंक करवाना क्यों जरूरी है ?

पान कार्ड जरूरी दस्तावेजों में से एक है। इसीलिए इसे आधार से लिंक करवाना ही अच्छा है। वरना आपका पैन कार्ड रदी के बराबर हो जाएगा और वह किसी काम का नहीं रहेगा। पैन से आधार को लिंक नहीं कर पाओगे तो पान कार्ड इनवेलिड हो जाएगा।

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट एक्ट की धारा 139AA के तहत अनुसार अगर पैन कार्ड को आधार से लिंक करवाया नहीं होगा तो इनकम टैक्स डिपार्टमेंट पैन कार्ड को इनवेलिड मानेगा।

 पैन को आधार से लिंक नहीं करवाया तो क्या मुश्किल या आ सकती है?


पैन कार्ड को आधार से लिंक ना होने पर ऑनलाइन आईटीआर फाइल करना मुश्किल हो जाएगा।

टैक्स का रिफंड फसे गा।

किसी भी फाइनेंशियल ट्रांजैक्शन के लिए पैन कार्ड का इस्तेमाल नहीं कर सकते।

Post a Comment

Please do not enter any spam link in the comment box.

Previous Post Next Post