बंद हो जाएगा आपका डेबिट-क्रेडिट कार्ड, बदल गए कई सर्विस - SBI ATM Card Latest News in Hindi 2020



आप डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड यूजर है तो आपको यह खबर जरूर पढ़नी चाहिए। एसबीआई समेत सभी बैंक 16 मार्च के बाद आपके डेबिट या क्रेडिट कार्ड के कुछ सर्विस ब्लॉक कर सकते हैं अगर आज तक आपने अपने क्रेडिट या डेबिट कार्ड से कोई भी कांटेक्ट लेस ऑनलाइन ट्रांजैक्शन नहीं किया है तो बिना देरी किए आज ही ट्रांजैक्शन करें। अगर आपने आज ही क्रेडिट या डेबिट कार्ड से कांटेक्ट लेस ऑनलाइन ट्रांजैक्शन नहीं किया तो आप के डेबिट या क्रेडिट कार्ड की सेवाएं बंद कर दी जाएगी 16 मार्च से डेबिट या क्रेडिट कार्ड पर मिलने वाली यह दोनों सर्विस बंद करी जा रही है। अगर आप यह सर्विस चालू रखना चाहते हैं तो एक बार तो यह दोनों में से एक ट्रांजैक्शन जरूर कर ले।


मार्च से पहले एसबीआई समेत सभी बैंकों को अपने खाता धारक को कम से कम एक बार कांटेक्ट लेस ट्रांजेक्शन या ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करने की सलाह s.m.s., ईमेल, वेबसाइट और सोशल मीडिया के जरिए संदेश दिया है और यह सब तो सूचना भी है कि ऐसा नहीं करने वाले खाता धारकों की सर्विस कल से ब्लॉक की जाएगी। आरबीआई की ओर से जारी की गई एडवाइजरी के बाद सभी बैंकों ने यह निर्देश उठाया है।


RBI एडवाइजरी:


आरबीआई ने जो एडवाइजरी जारी की है उसमें उन्हें सभी बैंकों को निर्देश दिए है कि 16 मार्च के बाद से कार्ड इशू यार यीशु करते वक्त देश में एटीएम और पीओएस टर्मिनल्स पर ही डोमेस्टिक कार्ड से ट्रांसलेशन को मंजूरी मिलेगी आरबीआई ने सभी बैंकों के कार्ड धारकों के ओवर फैसिलिटी को भी बंद करने का निर्देश दिया है। आपको यह सुविधा का लाभ लेना है तो आपको पहले ही आवेदन करना होगा।


यह सर्विस अब 24 घंटे मिलेंगे।


 Card धारकों को अब अपने बैंकों की ओर से क्रेडिट कार्ड ON/OFF करने की सुविधा मिलेगी इस सर्विस के जरिए आप अपने एटीएम कार्ड को ज्यादा सुरक्षित बना सकते हैं। आप अपने फोन बैंकिंग, नेट बैंकिंग से आप इस सर्विस का आसानी से फायदा उठा सकते हैं और आपको कार्ड ON/OFF करने की सुविधा बैंक 16 मार्च से देंगी।


कार्ड ट्रांजैक्शन डिसएबल करने की सुविधा।


अब अपने कार्ड के डोमेस्टिक और इंटरनैशनल ट्रांजैक्शन को 16 मार्च से डिसएबल कर सकते हैं और आप जब चाहे तब उसे चालू भी कर सकते हैं। यह सुविधा आपके कार्ड को ज्यादा सुरक्षित रखेंगे।


Transactions Limit खुद सेट करे :


आप अपने क्रेडिट या डेबिट कार्ड की लिमिट को 16 मार्च से खुद सेट कर सकते हैं। पर यह नियम के प्रीपेड गिफ्ट कार्ड और मेट्रो कार्ड पर लागू नहीं होंगे.


यह सारी सेवा आयोग की वजह से अब खाताधारक अपने क्रेडिट और डेबिट कार्ड से अपने बैंकों में पड़े पैसों को ज्यादा सुरक्षित रख सकते हैं और अगर आपका एटीएम कार्ड चोरी या गुम हो गया तो भी आप अपने कार्ड जांच एक्शन डिसएबल करवा कर अपने पैसों को सुरक्षित रख सकते हैं।


आरबीआई ने क्या कहा?


15 जनवरी 2020 के एक बयान में ही आरबीआई ने एसबीआई और अन्य भारतीय वाणिज्य बैंकों और कार्यकर्ताओं को बताया कि।


"मौजूदा कार्ड के लिए जारी करता अपने जोखिम की धारणा के आधार पर निर्णय ले सकते हैं। चाहे कार्ड को निष्क्रिय करना हो या वर्तमान लेनदेन अंतरराष्ट्रीय (कार्ड प्रेजेंट) लेनदेन और संपर्क रहित लेनदेन का अधिकार मिलता है। मौजूदा कार्ड जिनका उपयोग एक भी बार ऑनलाइन या अंतरराष्ट्रीय या संपर्क रहित लेनदेन में नहीं किया गया है। वह इस उद्देश्य के बाद अनिवार्य रूप से असक्षम होंगे।
और यह धारा 10 के तहत निर्देश जारी किया गया है।
(2)भुगतान और निपटान प्रणाली अधिनियम 2007"।


पिछले कुछ वर्षों में ऑनलाइन लेनदेन बढ़ गया है और क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड से लेनदेन बहुत ज्यादा विकसित हो गया है। भारतीय रिजर्व बैंक में डेबिट कार्ड धारकों को निम्नलिखित सुविधाएं प्रदान करने के लिए एसबीआई सहित सभी भारतीय बैंकों को निर्देशित किया है।


और सब डिजिटल ट्रांजैक्शन से जुड़े फ्रॉड पर रोक लगाने के लिए किया जा रहा है। क्योंकि आज जब सब डिजिटल पेमेंट करने लगे हैं तब फ्रॉड करने वालों की संख्या भी दिन भर दिन बढ़ती जा रही है। लोगों को कई बार अपने पैसों से भी हाथ धोना पड़ता है। इसीलिए यह सब को रोकने के लिए यह नियम लागू किए जा रहे हैं।इसीलिए कई लोग ऐसे भी है कि डिजिटल ट्रांजैक्शन से परहेज करते हैं और ग्राहकों के हित में भी नियम लागू किया गया है।


पहले भी 1 जनवरी 2020 में भी एसबीआई के कुछ नियम में बदलाव किया गया था। जैसे कि ओटीपी आधारित एटीएम लेनदेन EMV डेबिट कार्ड में अपग्रेडेशन और इसके बाहरी बेंच मार्क आधारित दर में कमी जिससे होम लोन सस्ता किया गया था।


एक जनवरी से एसबीआई एटीएम में रात 8:00 बजे से सुबह 8:00 बजे के बीच ₹10000 से ज्यादा की धनराशि मिलनी शुरू हो गई थी। होम लोन भी सस्ते किए गए थे। कल दरों को साल में ही तोहफा दिया गया था।


और 16 मार्च से यह नियम लागू करने से भी ग्राहकों का फायदा ही होगा और जो ऑनलाइन ट्रांजैक्शन चालू रखना चाहते हैं। वह चालू रख सकते हैं और जो चालू रखना नहीं चाहते वह उसकी कार्ड सेवाएं बंद कर दी जाएंगी।


आरबीआई ने ग्राहकों को यह सारी सुविधा इसीलिए दी है कि ऑनलाइन फ्रॉड इंग से बचा जा सके वह जब चाहे तब क्रेडिट और डेबिट कार्ड को ऑन ऑफ कर सकते हैं और कार्ड का ऑनलाइन ट्रांजैक्शन भी डिसएबल कर सकते हैं और अपना पैसा सुरक्षित रख सकते हैं।


एसबीआई का एक और अलर्ट भी आपको दिया गया है जिससे आपका लाखों का नुकसान होने से बच सकता है।

अगर आप एसबीआई का क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड इस्तेमाल करते हैं तो सावधान हो जाएं साइबर ठग आपको रिवार्ड प्लांट रिडेंप्शन नाम पर आपको भारी चुना लगा सकते हैं। एसबीआई ने अपने ग्राहकों को एस एम एस भेज कर उन नंबरों को भी बताया है। जिससे आपके पास इसे फ्रॉड कॉल आ सकते हैं। स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने 1800-1860 से शुरू होने वाले नंबर को बताया है कि यह नंबर फ्रॉड हो सकते हैं। अगर आपके फोन में इस नंबर से कोई कॉल आता है तो क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड की कोई भी डिटेल साझा ना करें।

आपको यह बता दे कि कोरोना महामारी के बीच जो अपना EMI नहीं भरना चाहते उनके लिए भी ठगों ने एक रास्ता सक्रिय कर लिया है। वह साइबर अटैक से ठग सकते हैं। आप की एक छोटी सी चूक से सारी जमा पूंजी ठगों के हाथ में लग सकती है। ऐसे ठगों से बचने के लिए देश के सबसे बड़े स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने अपने ग्राहकों को अलर्ट किया है। एसबीआई ने कहा है कि साइबर जाल साज ने लोगों को ठगने के लिए नए तरीके खोज लिए हैं। इन लोगों से बचने के लिए एकमात्र तरीका है कि सतर्क रहें और जागृत रहे।

Post a Comment

Please do not enter any spam link in the comment box.

Previous Post Next Post